अज़्माना

अज़्माना

मुझे अज़्माना ना छोड देना
पकड के हाथों को ना मोड देना
तुम्हें मिला जो कहीं सफ़र में
पुकार के भीड में युही.. ना छेड देना
#प्रिती #शायरी
#हमेशाबेहतरीनकीआशा